मरकज के कार्यक्रम में शामिल हुए थे रोहिंग्या, गृह मंत्रालय ने राज्यों से कहा- शिविरों की कराएं कोरोना स्क्रीनिंग

देश

देश में जारी कोरोना के कहर के बीच गृह मंत्रालय ने राज्यों को एक चिट्ठी लिखी है। इसमें कहा गया है कि ऐसी रिपोर्ट है कि निजामुद्दीन मरकज की शिविर में तबलीगी जमात के लोगों के साथ कुछ रोहिंग्या भी शामिल हुए थे। 

राज्यों के चीफ सेक्रेटरी, डीजीपी और दिल्ली के पुलिस कमीश्नर को लिखी चिट्ठी में कहा गया है कि ऐसी रिपोर्ट है कि रोहिंग्या मुस्लिम तबलीगी जमात के धार्मिक कार्यक्रमों में शामिल हुए थे। ऐसी संभावना है कि वे कोरोना संक्रमित हो सकते हैं। हैदराबाद के कैंप में रहने वाले रोहिंग्या हरियाणा के मेवात में आयोजित तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल हुए थे और वे निजामुद्दीन मरकज भी गए थे। 

गृह मंत्रालय ने अपनी चिट्ठी में आगे लिखा है, ‘ठीक उसी तरह दिल्ली के श्रम विहार और शाहीनबाग में रहने वाले रोहिंग्या भी तबलीगी जमात को कार्यक्रम में गए थे, जो अपने कैंप में वापस नहीं आए हैं।’

मंत्रालय ने कहा है कि इसके अलावा, तबलीगी जमात के कार्यक्रम में भाग लेने के बाद रोहिंग्या मुसलमानों की उपस्थिति पंजाब के डेराबस्सी और जम्मू में होने की खबर है। इसलिए, रोहिंग्या मुस्लिम और उनके संपर्क में आए लोगों की स्क्रीनिंग जरूरी है। राज्यों को इस दिशा में जरूरी कदम जल्द से जल्द उठाना चाहिए

मरकज के मुखिया पर चलेगा मुकदमा
दिल्ली की निजामुद्दीन मरकज के मुखिया मौलाना साद के करीबी चार लोगों पर कानून का शिकंजा कस गया है। पुलसि ने उनके खिलाफ मुकदमा कायम कर तफ्तीश शुरू कर दी है। आरोप है कि तीन मौलाना समेत चार लोगों ने फ्रांस और दक्षिण अफ्रीका की यात्रा की। उसके बाद दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज भी गए, लेकिन बीमारी फैलने क बाद भी यह बात पुलिस से छिपाई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *