उत्तराखंड में 32 सौ के पार हुए संक्रमित, 2621 हो चुके हैं स्वस्थ

उत्तराखंड

राज्य में मंगलवार को कोरोना के 69 नए मरीज मिले। इसके साथ ही राज्य में कुल मरीजों की संख्या 3230 हो गई है। 35 मरीजों को ठीक होने के बाद अस्पतालों से डिस्चार्ज किया गया।

ठीक होने वाले कुल मरीजों की संख्या 2621 हो गई है। मंगलवार को एक कोरोना पॉजिटिव की मौत भी हुई। जिससे राज्य में अभी तक करने वाले कुल संक्रमितों की संख्या 43 हो गई है। 

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार मंगलवार को यूएस नगर में 25, देहरादून में 18, अल्मोडा में दो, चम्पावत में दो, हरिद्वार में सात, नैनीताल में पांच, पौड़ी में तीन, पिथौरागढ़ में तीन, टिहरी में एक और उत्तरकाशी जिले में तीन मरीजों में कोरोना वायरस की पुष्टि हई।

टिहरी में एक नया मरीज मिलने से जिले का कोरोना मुक्त होने का स्टेटस भी एक दिन बाद ही खत्म हो गया है। राज्य में अभी तक कुल 81447 मरीजों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं।

जिसमें से 69926 मरीज नेगेटिव, 3230 पॉजिटिव जबकि 5687 मरीजों की सैंपल रिपोर्ट आना अभी बाकी है। राज्य के अस्पतालों में अभी 538 मरीजों का इलाज चल रहा है।

सबसे कम एक मरीज टिहरी जिले में है। जबकि चमोली में चार, पिथौरागढ़ में सात, चम्पावत में नौ और पौड़ी जिले में 11 मरीज भर्ती हैं। मंगलवार को दून मेडिकल कॉलेज में भर्ती एक 75 वर्षीय कोरोना संक्रमित मरीज की मौत भी हो गई।

राज्य में कोरोना संक्रमण की दर 4.41 प्रतिशत रह गई है। जबकि मरीजों का रिकवरी रेट 81 प्रतिशत से अधिक चल रहा है। मरीजों के दोगुना होने की दर 53 दिन चल रही है। 

एक दिन में आई 2200 सैंपलों की रिपोर्ट 
राज्य में सैंपल जांच की क्षमता में लगातार सुधार हो रहा है। यही वजह से कि मंगलवार को विभिन्न लैब से कुल 2200 मरीजों की जांच रिपोर्ट आई।

जिसमें से 69 ही कोरोना पॉजिटिव पाए गए। मंगलवार को राज्यभर से 1632 सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं। सबसे अधिक 285 सैंपल पौड़ी जिले से जांच के लिए भेजे गए हैं।

इसके अलावा चम्पावत से 222, देहरादून से 272, नैनीताल से 100 सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं। राज्य भर में कुल 76 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं। बिजनौर के कोरोना संक्रमित बुजुर्ग की मौत देहरादून। दून अस्पताल में आईसीयू वार्ड में भर्ती बिजनौर के एक 75 वर्षीय कोरोना संक्रमित बुजुर्ग की मौत हो गई। वह यहां तीन दिन से भर्ती थे और उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया था। 

अस्पताल के डिप्टी एमएस डा. एनएस खत्री ने बताया कि बुजुर्ग दिल, सांस, बीपी की बीमारी से ग्रसित थे। इसके अलावा उनके कूल्हे की हड्डी टूटी हुई थी। वह एक निजी अस्पताल में कई दिन से भर्ती थे। उनकी सर्जरी होनी थी, जिससे पहले उनकी कोरोना जांच कराई गई थी।

जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। सोमवार-मंगलवार की मध्यरात्रि को उनकी मौत हो गई। उनके परिजनों को बुलाकर पुलिस एवं प्रशासन की टीम की मदद से अंतिम संस्कार करा दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *