दूसरे राज्यों के पर्यटकों के लिए भी खुले राज्य के द्वार,

उत्तराखंड मनोरंजन व्यापार

दूसरे प्रदेशों से उत्तराखंड में आने वाले पर्यटक भी उत्तराखंड में चार धाम को छोड़ कर कहीं भी बेरोकटोक घूम सकेंगे। ये सुविधा सिर्फ उन्हीं लोगों को मिलेगी, जिन्होंने अपना कोरोना टेस्ट कराया है और रिपोर्ट निगेटिव आई है।  

नेगेटिव के बाद उन्हें क्वारन्टीन होने की जरूरत नहीं रहेगी। चारधाम यात्रा फिलहाल उत्तराखंड के निवासियों के लिए ही उपलब्ध होगी। 

पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा की प्रत्येक पर्यटक कोविड-19 नेगेटिव टेस्ट रिपोर्ट लेकर राज्य में प्रवेश कर सकेंगे। राज्य के खूबसूरत पर्यटक स्थलों का आनंद लेंगे।

इससे राज्य में किसी प्रकार के संक्रमण के खतरे को खत्म किया जा सकेगा। राज्य के पर्यटन व्यवसाय को नई गति  मिलेगी। पर्यटन के क्षेत्र में कार्य करने वाले लोगों को फिर से रोजगार मिलेगा।

स्मार्ट सिटी पोर्टल पर अपलोड करनी होगी रिपोर्ट
पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर  ने बताया कि देश के अन्य राज्यों से आने वाले सभी पर्यटकों को कोविद 19 संबंधी रिपोर्ट स्मार्ट सिटी देहरादून के पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन के वक्त अपलोड करनी  होगी।

पर्यटकों को राज्य में भ्रमण करते समय अनिवार्य रूप से इस रिपोर्ट को अपने साथ रखना होगा । जिन पर्यटकों ने टेस्ट नहीं कराया है, उन्हें न्यूनतम सात दिन की होटल बुकिंग करवाने की दशा में  राज्य में प्रवेश मिलेगा।

7 दिन के बाद ही वह राज्य में किसी भी स्थान पर भ्रमण कर सकेंगे। पहले सात दिनों तक वे  होटल परिसर में रह सकेंगे। होटलों को भी यह सुनिश्चित करना  होगा कि 7 दिन से कम की बुकिंग करने वाले पर्यटकों ने आईसीएमआर अधिकृत लैब से आरटी-पीसीआर टेस्ट पिछले 72 घंटो में करवाया है। और  उनका कोविड-19 परीक्षण निगेटिव पाया गया  हो। राज्य के भीतर के पर्यटकों को कहीं भी आने जाने की छूट होगी।
 
शादी वाले मेहमान भी नहीं होंगे क्वारन्टीन
पर्यटन सचिव दिलिप जावलकर  ने बताया की शादी समारोह में शामिल होने को उत्तराखण्ड और अन्य राज्यों से आये हुए मेहमानों को क्वारन्टीन नहीं होना होगा।

उनके साथ यह शर्त होगी कि विवाह के स्थान  के अतिरिक्त अन्य स्थानों पर नहीं जा पाएंगे। इन सभी को एक सेल्फ डिक्लेरेशन फॉर्म हस्ताक्षरित कर जमा करना होगा।

शादी  समारोह आयोजित करने वाले होटल अथवा बैंकट हॉल स्थानीय  प्रशासन को इस संबंध में सूचित करना होगा। थर्मल स्क्रीनिंग और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना सुनिश्चित करेंगे। उन्हें अपने कर्मचारियों तथा आगंतुकों का डेटाबेस  अनिवार्य रूप से तैयार करना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *